बाल अधिकार के हनन पर होगी कड़ी कार्रवाई : डीएम

By Navin | Updated: 02 Nov 2019

 किशनगंज  :  जिला पदाधिकारी के सभागार में जिला चाइल्डलाइन एडवाइजरी बोर्ड बाल कल्याण समिति जिला बाल संरक्षण इकाई तथा जिला स्तरीय मानव व्यापार विरोधी समन्वय समिति की संयुक्त बैठक का आयोजन किया गया. 

 

बैठक में सर्वप्रथम 1098 के प्रतीक स्वरूप बने कैंडल को जलाकर जिलाधिकारी, जिला परिषद की अध्यक्षा, पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय तथा चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उदघाटन किया किया. इसके बाद चाइल्ड लाइन का विधिवत पावर प्रेजेंटेशन किया गया.

 

 जिसमें चाइल्ड लाइन के परिभाषा से लेकर जनवरी से अब तक के कार्यों बच्चों को प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष किए गए मदद तथा जागरूकता के कार्यक्रम की समय की जानकारी थी. जिसके तहत बताया गया कि गत 8 माह में चाइल्ड लाइन द्वारा 151 स्कूल पंचानवे आंगनबाड़ी केंद्र सहित 300 से ज्यादा जागरूकता कार्यक्रम किए गए हैं. 

 

प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से 231 बच्चों को मदद पहुंचाई गई है. चाइल्ड लाइन के कार्यों की सराहना करते हुए जिला पदाधिकारी महोदय ने बच्चियों से संबंधित मामले जैसे मानव व्यापार बाल विवाह को गंभीर बताया और उसके व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए पंचायत से लेकर जिला स्तर तक जागरूकता करने की बात दोहराई. किसी भी स्तर से इसमें कमी को सख्ती से निपटने अप्रत्यक्ष रूप से शामिल लोगों पर हरसंभव दंडात्मक कार्यवाही करने का भी निर्देश दिया. 

 

चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक अधिवक्ता पंकज कुमार झा द्वारा जब बताया गया कि बाल विवाह के मामले में कुछ तकनीकी समस्याएं आती हैं तो जिलाधिकारी ने उपस्थित सबों को आग्रह किया कि अब बाल विवाह के मामले आते ही मुझे फोन करें, मैं उसे फॉलो करूंगा. पावर प्रेजेंटेशन का प्रस्तुतीकरण कोलैबोरेटिव ऑर्गेनाइजेशन के निदेशक मासूम सरवर ने किया. 

 

बैठक में नगर परिषद अध्यक्ष, पुलिस उपाधीक्षक, जिला बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी, रेड क्रॉस सोसाइटी के सेक्रेटरी मिक्की साहा, चाइल्डलाइन कॉलेज के डायरेक्टर मासूम सरवर, समन्वयक मरगूब इलमी सहित पूरी टीम उपस्थित थे. पूर्व से सूचना के बाद भी बैठक में उपस्थित नहीं होने वाले पदाधिकारियों पर डीएम ने कारण परीक्षा नोटिस भी निर्गत करने का निर्देश दिया है.

 

बालक व बालिका गृह का निरीक्षण

किशनगंज . जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता वाली बाल संरक्षण निगरानी कमेटी  ने डीएम हिमांशु शर्मा के नेतृत्व में सोमवार को बालक एवं बालिका गृह का निरीक्षण किया. प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत पिपला स्थित बालिका गृह का निरीक्षण के दौरान डीएम ने बालिका गृह में रह रही बालिकाओं से बातचीत की. बालिका गृह में विगत छह माह से चिकित्सकों द्वारा बच्चे बच्चियों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं किये जाने की बात सामने आने पर डीएम जमकर बिफरे. उन्होंने बालक एवं बालिका गृह में रह रहे बच्चों का नियमित स्वास्थ्य जांच का निर्देश दिया. 

 

निरीक्षण के दौरान डीएम ने बालक एवं बालिका गृह में साफ सफाई, खाना रहने आदि की सुविधा के अलावे संचिकाओं की जांच की. उल्लेखनीय है कि बालक एवं बालिका गृह का नियमित जांच व निगरानी के लिए जिला स्तर पर निगरानी समिति गठित है. निगरानी समिति में डीएम अध्यक्ष के अलावे सदस्य के रूप में जिला बाल संरक्षण इकाई के निदेशक, डीपीओ सर्वशिक्षा, सीडब्लूसी की महिला सदस्य, एसपी द्वारा नामित पुलिस पदाधिकारी एवं तटवासी समाज कल्याण समिति के सदस्य शामिल हैं.

 

Views: 12

Comments

Login to Comment